Friday, June 14, 2024
spot_img
Home साहित्य भगवान कल्याणराय के आंसू और महाराजा रूपसिंह राठौड़

भगवान कल्याणराय के आंसू और महाराजा रूपसिंह राठौड़

इस ऐतिहासिक उपन्यास में शाहजहां के सबसे विश्स्त राजपूत राजा किशनगढ़ नरेश महाराजा रूपसिंह राठौड़ की जीवन गाथा को आधार बनाया गया है जिसने शामूगढ़ की लड़ाई में औरंगजेब के हाथी की अम्बारी की रस्सियां काटते हुए अपने प्राण न्यौछावर किए थे। यह उपन्यास आज से कुछ वर्ष पहले भगवान कल्याण राय के आंसू और महाराजा रूपसिंह राठौड़ के नाम से प्रकाशित हुआ था।

- Advertisement -

Latest articles

चौरासी खम्भा मंदिर - www.rajasthanhistory.com

चौरासी खम्भा मंदिर

0
कामां के चौरासी खम्भा मंदिर का पुराणों में विष्णु मंदिर के रूप में उल्लेख हुआ है। कामा ब्रजभूमि के चौरासी कोस के घेरे में स्थित है तथा भगवान श्रीकृष्ण की क्रीड़ास्थली है।
दधिमती माता मंदिर - rajasthanhistory.com

दधिमती माता मंदिर गोठमांगलोद का इतिहास

0
दधिमती मंदिर गोठ, मांगलोद एवं दुगस्ताऊ गांवों की सीमा पर वनक्षेत्र में स्थित है। मंदिर के चारों ओर जिप्सम के विशाल भंडार हैं।
दधिमती मंदिर के शिलालेख - rajasthanhistory.com

दधिमती मंदिर के शिलालेख

0
दधिमती मंदिर अत्यंत प्राचीन काल में बना था। इसका गर्भगृह इसके गुप्तकालीन होने की पुष्टि करता है।
रामकथा का शिल्पांकन - rajasthanhistory.com

मारवाड़ के प्रतिहार कालीन मंदिरों में रामकथा का शिल्पांकन

0
प्रतिहार कालीन मंदिरों में रामकथा के प्रसंगों का अंकन नहीं होता था किंतु ये तीनों ही मंदिर इस परम्परा के अपवाद हैं।
एकलिंगजी मंदिर _ rajasthanhistory.com

एकलिंगजी मंदिर

0
एकलिंग मंदिर हजारों साल पुराना है। मान्यता है कि मेवाड़ राज्य की स्थापना करने वाले राजा ने इस स्थान पर भगवान शिव की उपासना की थी।
// disable viewing page source